रहस्यमय किताब. Mysterious Voynich Manuscript in Hindi

विज्ञान चाहे कितनी भी तरक्की क्यों न करले लेकिन अभी भी हमारे इस दुनिया में ऐसे बहुत सारे रहस्य है जिसके ऊपर से पर्दा उठना बाकी है और उन्ही रहस्य में से एक है “वॉयनिक मैनुस्क्रिप्ट” ( Voynich Manuscript ). दोस्तों अभी तक तो आप लोगों ने अलग अलग भाषाओं में बहुत सारी किताबों को पढ़ा होगा और समझा भी होगा. लेकिन क्या आपको पता है हमारे इस दुनिया में एक किताब ऐसा भी है जिसे आज तक न कोई पढ़ पाया और न ही कोई इस किताब को समझ पाया. आखिर क्या है इस किताब में ? क्यों इस किताब को दुनिया के सबसे रहस्यमयी किताबों में से एक माना जाता है ? तो आइये आज आप इस अनोखी, अनसुलझी रहस्यमयी किताब के बारे में थोड़ा बहुत जान ले. Mysterious Voynich Manuscript in Hindi.

 

Mysterious Voynich Manuscript in Hindi
Voynich Manuscript

 

रहस्यमय किताब. Mysterious Voynich Manuscript in Hindi

15वी सदी में एक रहस्यमयी लिपि लिखा गया था जिसे 240 पेज की एक किताब में संकलित भी किया गया था. जिसे आज हम “वॉयनिक मैनुस्क्रिप्ट” (Voynich Manuscript) यानि वॉयनिक पाण्डुलिपि के नाम से जानते है. इस किताब में ऐसी भाषा में कुछ लिखा गया है जिसे आज तक कोई समझ नहीं पाया. वॉयनिक मैनुस्क्रिप्ट ( Voynich Manuscript ) में बहुत सारे पेड़-पौधे के चित्र भी दिये गए है. लेकिन हैरान कर देने वाली बात यह है कि उनमें से कुछ पेड़-पौधे के चित्र ऐसे है जो धरती के किसी भी पेड़-पौधे से मेल नहीं खाते.

 

कई सारे प्रोफेशनल क्रिप्टोग्राफर्स (cryptographer’s), यहाँ तक की अमेरिकन और ब्रिटिश कोड ब्रेकर्स (code breaker’s) भी वॉयनिक मैनुस्क्रिप्ट ( Voynich Manuscript ) को समझ ने की पूरी कोशिश की, लेकिन वो भी इसे समझ नही पाये. इसीलिये “वॉयनिक मैनुस्क्रिप्ट” को दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताब माना जाता है. कार्बन डेटिंग के द्वारा यह पता लगाया गया कि इस मैनुस्क्रिप्ट को वर्ष 1404 से 1438 के बीच यानि 15 वी सदी में लिखा गया और इस मैनुस्क्रिप्ट का नाम इटली के एक बुक डीलर Wilfrid Voynich के नाम पर रख्खा गया क्यों की उन्होंने ही इस किताब को वर्ष 1912 में ख़रीदा था. लेकिन इस मैनुस्क्रिप्ट को लिखा किसने वो अभी तक पता नहीं चल पाया. वैसे तो इस किताब में क्या लिखा है, कौन सी भाषा में लिखा है उसकी सठिक जानकारी किसी के पास नहीं है लेकिन बस इतना ही पता चल पाया है कि इस किताब में लिखा गया कुछ शब्द लैटिन और जर्मन भाषा में है.

 

आज के दिन में इस किताब के अंदर 240 पेज है लेकिन पहले इस किताब के अंदर और भी पेज हुआ करती थी, लेकिन वक़्त के साथ साथ बहुत से पेज नष्ट हो गए. वॉयनिक मैनुस्क्रिप्ट को 6 अलग अलग हिस्से में बांटा गया है और हर हिस्से में किसी न किसी विषय (topic) के बारे में बताया गया है. 6 अलग अलग हिस्से में अलग अलग तरह के चित्र को देखकर यह अनुमान लगाया गया कि इस वॉयनिक मैनुस्क्रिप्ट में खगोल (Astronomy), जीवविज्ञान (Biology), ब्रह्माण्ड विज्ञान (Cosmology), हर्बल ज्ञान (Herbal knowledge), दवा (Medicine), व्यंजनों (Recipe’s) के बारे में बताया गया है, लेकिन यह सिर्फ एक अनुमान है. इसका कोई ठोस प्रमाण अभी तक सामने नहीं आया है.

 

अगर यह जानकारी आप को पसंद आये तो आप अपने दोस्तों के साथ ही इसे जरूर शेयर करे.

Share Now

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!