पिरामिड के कुछ अनसुलझे रहस्य. Facts about Pyramid in Hindi

पिरामिड ( Pyramid ) के बारे में तो आप सभी ने सुना ही होगा क्योंकि बचपन से हम धरती के सात अजूबों के बारे में सुनते और पढ़ते आ रहे है. और ग़िज़ा के महान पिरामिड ( Great Pyramid of Giza ) सात अजूबों में से एक है. लेकिन क्या आप के दिमाग में कभी यह बात ये है, कभी यह सोचा है आपने की हजारों सालों पहले इतनी बारीकी से इन पिरामिड को बनाया कैसे होगा ? क्योंकि उस समय तो टेक्नोलॉजी बिल्कुल ना के बराबर थी.. पिरामिड के बारे में कुछ ऐसे रोचक बातें ( Some amazing facts about Pyramid in Hindi ) मै आज आप के सामने रखनेवाला हु जिसे जानने के बाद आप भी एक बार के लिए ही सही लेकिन सोचने पर मजबूर जरूर हो जायेंगे.

 

Facts about Pyramid
Pyramid of Egypt

 

पिरामिड के कुछ अनसुलझे रहस्य. Facts about Pyramid in Hindi

 

कहा जाता है इन पिरामिड को बनाया गया था राजा-महाराजाओं के शब् को सुरक्षित रखने के लिए मतलब मम्मी (mummy) बना कर रखने के लिए. लेकिन आज तक किसी भी पिरामिड में कोई भी मम्मी नहीं मिला. वैज्ञानिकों के अनुसार इन पिरामिड के नीचे बहुत सी ऐसे गुप्त कमरे और रास्ते हो सकते है जिनके बारे में अभी भी हमारे पास कोई भी जानकारी नहीं है. तो ऐसा भी हो सकता है अगर मम्मी को सुरक्षित रखने के लिए इन पिरामिड को बनाया गया है, तो कही न कही वो सभी मम्मी अभी भी सुरक्षित होगी, क्युकी अगर किसी के हाथ लग जाये वो मम्मी तो वो सुरक्षित कैसा..

 

वैसे तो मिस्र में 138 पिरामिड है. पर इसमें सबसे प्रसिद्ध ग़िज़ा का पिरामिड है. इसे ग्रेट ग़िज़ा पिरामिड भी कहा जाता है. ग़िज़ा केे ग्रेट पिरामिड की ऊंचाई 450 फीट है. 43 सदियों तक यह दुनिया की सबसे ऊंची संरचना थी लेकिन 19 वि सदी में इसका यह रिकॉर्ड टूट गया और इस पिरामिड का जो नीचे का भाग है वो 13 एकड़ में फैला है जो लगभग 16 फुटबॉल के मैदान जितना बड़ा है. इस पिरामिड को 25 लाख चुनापत्थरो से बनाया गया था और हर एक पत्थर का वजन 2 टन से लेकर 30 टन तक का था और इस भव्य पिरामिड को बनाने में 23 साल का वक़्त लगा था. लेकिन बात फिर से घूम फिर के वही पे आके रुक जाती है की आखिर उस समय में बिना किसी टेक्नोलॉजी के ऐसा भव्य पिरामिड कैसे बनाया गया होगा, क्युकी इंजीनियर्स भी मानते है कि आज के जमाने में इतने एडवांस्ड टेक्नोलॉजी ( advanced technology ) के होते हुए भी बिल्कुल ऐसा ही एक दूसरा पिरामिड का निर्माण करना नामुमकिन है.

 

पिरामिड्स का रहस्य तो और भी बढ़ने लगा जब यह सिर्फ ग़िज़ा में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में पाया जाने लगा. ग़िज़ा से कही छोटे पिरामिड्स सूडान (Sudan) में मिले जिनकी संख्या है 255 और ऐसे ही साउथ अमेरिका, चीन, इटली, इंडोनेशिया में बहुत से जगह पर मिलने लगा. गौर करने वाली बात तो यह है, उस समय तो इंटरनेट नाम की कोई चीज होती नहीं थी, ना ही संचार का कोई माध्यम होता था. बल्कि उस समय तो एक देश से दूसरे देश जाने के लिए या फिर कोई संदेशा पहुचाने के लिए भी बहुत दिक्कत होती होगी. तो फिर कैसे बिना किसी संचार माध्यम के, बिना कुछ देखे, एक ही समय में धरती के अलग अलग जगह पर काफी हद तक एक जैसे दिखने बाले पिरामिड्स को बनाये गए. सच में सोचने वाली बात है.

 

द ग्रेट पिरामिड ( The Great Pyramid ) को बनाने के लिए 25 लाख अलग अलग आकार के चुनापत्थरो का उपयोग किया गया था और हर एक पत्थर का वजन 2 टन से लेकर 30 टन तक का था जिससे किसी भी स्ट्रक्चर का निर्माण करना मुश्किल था. लेकिन इसके बावजूद मिश्र वासियों ने इस पिरामिड को इतने बारीकी से बनाया है की उन पत्थरो की बीच में से एक सुई भी घुसइ नही जा सकती. पिरामिड में नींव के चारों कोने के पत्थरों में बॉल और सॉकेट बनाए गए है, ताकि ऊष्मा से होने वाले प्रसार और भूकंप से ये सुरक्षित रहे. विशेषज्ञों का तो यह भी मानना है की मिश्र वासियों को सूक्ष्म गणितीय और खगोलीय ज्ञान की भी जानकारी रहा होगा क्युकी पिरामिड इस तरह बनाया गया की वो 500° के साथ उत्तर दिशा को अंकित करता है जो की बिलकुल सटीक है.

 

ग्रेट पिरामिड में पत्थरों का प्रयोग इस प्रकार किया गया है की इसके भीतर का तापमान हमेशा धरती के औसत तापमान 20° सेल्सियस के बराबर रहता है. और यदि इस पिरामिड के पत्थरों को 30 सेंटीमीटर के मोटे टुकड़ों में काट दिया जाए, तो इनसे फ्रांस के चारों ओर एक मीटर ऊंची दीवार बनाई जा सकती है. वैज्ञानिक प्रोयोगो द्वारा यह प्रमाणित हो गया है कि पिरामिड के अंदर विलक्षण किस्म की उर्जा तरंगे लगातार काम करती रहती है जो सजीव और निर्जाव दोनो ही प्रकार की वस्तुओं पर प्रभाव डालती हैं. वैज्ञानिक इसे ‘पिरामिड पॉवर‘ कहते है. इन पिरामिडो को बनाने की तकनीक के बारे में अब तक कुछ भी पता नही चला है. वैज्ञानिक कई सालों से इस बात को जाने में लगे है लेकिन कोई सफलता नही मिली.

 

आशा करता हु आप लोगो को पिरामिड के बारे में यह सब बातें जानकर अच्छा लगा. अगर पसंद आये तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.

Share Now

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!